Dev Uthani Ekadashi 2015: A Day To Awaken Vishnu!

Dev Uthani Ekadashi 2015 Date

22nd

November 2015

(Sunday)

The date for Dev Uthani Ekadashi in 2015 is November 22. Want to know the secret to attain a step closer to Moksha? Then, this day is the answer. Venerate Lord Vishnu this Dev Uthani Ekadashi in 2015 and lead a divine life…

Dev Uthani Ekadashi 2015: What Is Dev Uthani Ekadashi?

 Dev Uthani Ekadashi in 2015 will be dedicated to Lord Vishnu.

Dev Uthani Ekadashi, also known as Prabodhini Ekadashi, is considered to be an auspicious day according to Hindu traditions. The day of Dev Uthani Ekadashi is devoted to Lord Vishnu . Want to know more about the day of Dev Uthani Ekadashi? Then, let’s proceed forward as we have brought you everything you need to know about Dev Uthani Ekadashi in 2015.

According to the Hindu calendar Dev Uthani Ekadashi takes place on the Ekadashi Tithi of Shukla Paksha (bright fortnight) in the Hindu month of Kartik. Prabodhini Ekadashi means ‘the awakening eleventh’. It is believed that on this day, Lord Vishnu wakes up after sleeping on the day of Dev Shayani Ekadashi. Hence its name is also popular as Dev-Prabodhini, Deothan, and Devuthani Ekadashi.

Now, let’s know when the day of Dev Uthani Ekadashi in 2015 will be observed.

Dev Uthani Ekadashi 2015 Date & Timing

Event Day Date Tithi
Dev Uthani Ekadashi 2015 Sunday November 22 Ekadashi

Parana Muhurat is the auspicious time of breaking the fast on Dev Uthani Ekadashi. The Vrat of Prabodhini Ekadashi should be terminated within Dwadashi Tithi (succeeding day).

We hope that now as you know when to observe Dev Uthani Ekadashi or Prabodhini Ekadashi in 2015, you would be able to follow the day of Dev Uthani Ekadashi with more piousness in 2015.

But, why is the day of Dev Uthani Ekadashi is observed every year? Now, let’s discuss the legends associated with Dev Uthani Ekadashi and find out the reasons behind observing Prabodhini Ekadashi in 2015.

Dev Uthani Ekadashi 2015: Why To Observe Dev Uthani Ekadashi In 2015?

It is said that Goddess Laxmi was unhappy with Lord Vishnu as he followed an undisciplined pattern of sleeping. It often happened when Vishnu slept for days and there were days when he didn’t sleep at all. It was due to his this habit that other gods and goddesses had to wait for long to meet him. Furthermore, demons highly took advantage of this, thereby leading to the spread of Adharma on earth. Hence, Goddess Lakshmi complained about all these to Lord Vishnu.

Vishnu promised Laxmi to soon come up with a solution. Meanwhile, the Devas visited Vishnu to inform him about the robbery of the Vedas by Sankhyayan, a demon. The demon had soon spread Adharma all around. On hearing this, Lord Vishnu assured the Devas that they would be able to get back the Vedas.

After fighting for days with Demon Sankhyayan, he was successful in defeating Sankhyayan. He was then able to return the Vedas to the gods. Concluding the event, Vishnu continued with a long sleep for four months.

His sleep started from Ashadha Ekadashi and continued till Kartik Ekadashi. The day of Kartik Ekadashi is known as Prabodhini Ekadashi. Since then, the day of Dev Uthani Ekadashi came into being.

Now, as you know why to observe the day of Dev Uthani Ekadashi in 2015, let’s take a look at how to observe the day of Dev Uthani Ekadashi.

How To Observe Dev Uthani Ekadashi In 2015?

Following are the rituals that are to be carried out on Dev Uthani Ekadashi in 2015:

  1. On the day of Prabodhini Ekadashi, devotees take a holy bath early morning.
  2. Devotees perform the ritual of marriage of Lord Vishnu with Tulsi plant on this day. This ritual is known as Tulsi Vivah (marriage with Tulsi plant).
  3. A fast is performed that begins on the day of Dashami day (preceding day). Vrat is continued till Dwadashi (succeeding day).
  4. The fast is terminated within Dwadashi Tithi according to the Parana Muhurat.

But, why one should observe such austerities on this day of Ekadashi? We must definitely know the significance of Dev Uthani Ekadashi. Let’s take a look at it.

Significance Of Dev Uthani Ekadashi

The day of Devuthni Ekadashi is an ultimate way to reach the doorway of heaven. It is strongly believed that if one follows the day of Devuthni Ekadashi with severe devotion, he/she will definitely be gifted with Moksha and will be able to reach the heavenly abode of Devas, Vishnu Loka. The day of Dev Uthani Ekadashi is also believed to carry the boon to free the souls of a person’s ancestors.

Now, we will take a look at the different patterns of observing the day of Dev Uthani Ekadashi in 2015. Let’s proceed:

Dev Uthani Ekadashi 2015: Maharashtrian Pattern

In Maharashtra, the day of Dev Uthani or Prabodhini Ekadashi is dedicated to Lord Vithoba, a form of Lord Vishnu. Celebrations take a festive turn at Pandharpur where thousands of pilgrims visit temples of Lord Vishnu. The celebrations take place for a period of five days at Pandharpur. The worshiping pattern at Pandharpur is also known as Sarkari Puja.

Dev Uthani Ekadashi 2015: Rajasthani Pattern

In Rajasthan, Dev Uthani Ekadashi takes place at Pushkar where Pushkar Mela is organized. This continues till Kartik Purnima (full-Moon day). Pushkar Mela is held to worship Lord Brahma. It is believed that if one takes a holy bath in Pushkar lake, one can attain a step closer to salvation. The fair is continued till Kartik Purnima. During the period, a camel fair is also organized in Rajasthan, which is considered to be Asia’s largest fair.

Dev Uthani Ekadashi 2015: Gujarati Pattern

In Gujarat, a Parikrama (circumambulation) is held by the devotees at Mt. Girnar for a two-day period. It is believed that the Lord resides around the mountain during Dev Uthani Ekadashi. Over 800,000 devotees pay reverence to Lord Vishnu on the day of Prabodhini Ekadashi at Mt. Girnar.

Lord Vishnu is coming to you this Dev Uthani Ekadashi in 2015. Don’t miss the chance to venerate him and achieve the blessings of divinity from the Lord.

We hope that this article has been able to deliver you a detailed picture of the day of Dev Uthani Ekadashi in 2015.

AstroSage wishes you all a Happy Dev Uthani Ekadashi in 2015!

Festival Articles

देव उठनी एकादशी प्रबोधनी ग्यारस तुलसी विवाह महत्व एवम पूजा विधि

Dev Uthani Gyaras Pooja Prabodhini Ekadashi Vrat Tulsi Vivah Katha Mahtva Date In Hindi देव उठनी एकादशी प्रबोधनी ग्यारस तुलसी विवाह महत्व एवम पूजा विधि को विस्तार से पढ़े एवम इसके पीछे की आध्यात्मिक कथा का आनंद ले |

देव उठनी एकादशी जिसे प्रबोधनी एकादशी भी कहा जाता हैं | इसे पापमुक्त करने वाली एकादशी माना जाता हैं |सभी एकादशी पापो से मुक्त होने हेतु की जाती हैं | लेकिन इस एकादशी का महत्व बहुत अधिक माना जाता हैं | राजसूय यज्ञ करने से जो पुण्य की प्राप्ति होती हैं उससे कई अधिक पुण्य देवउठनी प्रबोधनी एकादशी का होता हैं |

इस दिन से चार माह पूर्व देव शयनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु एवम अन्य देवता क्षीरसागर में जाकर सो जाते हैं | इसी कारण इन दिनों बस पूजा पाठ तप एवम दान के कार्य होते हैं | इन चार महीनो ने कोई बड़े काम जैसे शादी, मुंडन संस्कार, नाम करण संस्कार आदि नहीं किये जाते हैं | यह सभी कार्य देव उठनी प्रबोधनी एकादशी से शुरू होते हैं |

इस दिन तुलसी विवाह का भी महत्व निकलता हैं | इस दिन तुलसी विवाह का आयोजन किया जाता हैं | इस प्रकार पुरे देश में शादी विवाह के उत्सव शुरू हो जाते हैं |

Dev Uthani Gyaras Pooja Prabodhini Ekadashi Vrat Tulsi Vivah Katha Mahtva Date In Hindi

Dev Uthani Gyaras Prabodhini Ekadashi 2015 Date :

कब मनाई जाती हैं देव उठनी ग्यारस अथवा प्रबोधिनी एकादशी ?

कार्तिक माह में शुक्ल पक्ष की ग्यारस के दिन उठनी ग्यारस अथवा प्रबोधिनी एकादशी मनाई जाती हैं | यह दिन दिवाली के ग्यारहवे दिन आता हैं | इस दिन से सभी मंगल कार्यो का प्रारंभ होता हैं |

वर्ष 2015 में उठनी ग्यारस अथवा प्रबोधिनी एकादशी 22 नवंबर को मनाई जाएगी |

Dev Uthani Gyaras Prabodhini Ekadashi Mahatva :

उठनी ग्यारस अथवा प्रबोधिनी एकादशी का महत्व :

हिन्दू धर्म में एकादशी व्रत का महत्व सबसे अधिक माना जाता हैं | इसका कारण यह हैं कि उस दिन सूर्य एवम अन्य गृह अपनी स्थिती में परिवर्तन करते हैं जिसका मनुष्य कीई इन्द्रियों पर प्रभाव पड़ता हैं | इन प्रभाव में संतुलन बनाये रखने के लिए व्रत का सहारा लिया जाता हैं | व्रत एवम ध्यान ही मनुष्य में संतुलित रहने का गुण विकसित करते हैं |

  1. इसे पाप विनाशिनी एवम मुक्ति देने वाली एकादशी कहा जाता हैं | पुराणों में लिखा हैं कि इस दिन के आने से पहले तक गंगा स्नान का महत्व होता हैं , इस दिन उपवास रखने का पुण्य कई तीर्थ दर्शन, हजार अश्वमेघ यज्ञ एवम सौ राजसूय यज्ञ के तुल्य माना गया हैं |
  2. इस दिन का महत्व स्वयं ब्रम्हा जी ने नारद मुनि को बताया था उन्होंने कहा था इस दिन एकाश्ना करने से एक जन्म, रात्रि भोज से दो जन्म एवम पूर्ण व्रत पालन से साथ जन्मो के पापो का नाश होता हैं |
  3. इस दिन से कई जन्मो का उद्धार होता हैं एवम बड़ी से बड़ी मनोकामना पूरी होती हैं |
  4. इस दिन रतजगा करने से कई पीढियों को मरणोपरांत स्वर्ग मिलता हैं |जागरण का बहुत अधिक महत्व होता हैं इससे मनुष्य इन्द्रियों पर विजय पाने योग्य बनता हैं |
  5. इस व्रत की कथा सुनने एवम पढने से 100 गायो के दान के बराबर पुण्य मिलता हैं |
  6. किसी भी व्रत का फल तब ही प्राप्त होता हैं जब वह नियमावली में रहकर विधि विधान के साथ किया जाये |

इस प्रकार ब्रम्हा जी ने इस उठनी ग्यारस अथवा प्रबोधिनी एकादशी व्रत का महत्व नारद जी को बताया एवम प्रति कार्तिक मास में इस व्रत का पालन करने को कहा |

Dev Uthani Gyaras Prabodhini Ekadashi Pooja Vidhi

उठनी ग्यारस अथवा प्रबोधिनी एकादशी व्रत पूजा विधि :

  • इस दिन सूर्योदय से पूर्व उठकर नित्यकर्म,स्नान आदि करना चाहिये |
  • सूर्योदय के पूर्व ही व्रत का संकल्प लेकर पूजा करके सूर्योदय होने पर भगवान सूर्य देव को अर्ध्य अर्पित करते हैं |
  • अगर स्नान के लिए नदी अथवा कुँए पर जाये तो अधिक अच्छा माना जाता हैं |
  • इस दिन निराहार व्रत किया जाता हैं दुसरे दिन बारस को पूजा करके व्रत पूर्ण माना जाता हैं एवम भोजन ग्रहण किया जाता हैं |
  • कई लोग इस दिन रतजगा कर नाचते, गाते एवम भजन करते हैं |
  • इस दिन बैल पत्र, शमी पत्र एवम तुलसी चढाने का महत्व बताया जाता हैं |
  • उठनी ग्यारस अथवा प्रबोधिनी एकादशी के दिन तुलसी विवाह का महत्व होता हैं |

Tulsi Vivah 2015 Date :

तुलसी विवाह कब मनाया जाता हैं ?

यह तुलसी विवाह देव उठनी एकादशी के दिन कार्तिक मास शुक्ल पक्ष ग्यारस के दिन किया जाता हैं लेकिन कई लोग इसे द्वादशी अर्थात देव उठनी एकादशी के अगले दिन किया जाता हैं |

वर्ष 2015 में तुलसी विवाह 22 नवंबर अथवा 23 नवंबर को अपनी –अपनी मान्यतानुसार के दिन किया जायेगा |

Tulsi Vivah Mahatva :

तुलसी विवाह का महत्व :

तुलसी एक गुणकारी पौधा हैं जिससे वातावरण एवम तन मन शुद्ध होते हैं | कैसे बना तुलसी का पौधा एवम तुलसी विवाह के पीछे क्या कथा हैं ? आगे पढिये :

Tulsi Vivah Katha :

तुलसी विवाह कथा

तुलसी, राक्षस जालंधर की पत्नी थी वह एक पति व्रता सतगुणों वाली नारी थी लेकिन पति के पापों के कारण दुखी थी इसलिए उसने अपना मन विष्णु भक्ति में लगा दिया था | जालंधर का प्रकोप बहुत बढ़ गया था जिस कारण भगवान विष्णु ने उसका वध किया | अपने पति की मृत्यु के बाद पतिव्रता तुलसी ने सतीधर्म को अपनाकर सती हो गई | कहते हैं उन्ही की भस्म से तुलसी का पौधा उत्पन्न हुआ और उनके विचारों एवम गुणों के कारण ही तुलसी का पौधा इतना गुणकारी बना | तुलसी के सदगुणों के कारण भगवान विष्णु ने उनके अगले जन्म में उनसे विवाह किया |

इस प्रकार यह मान्यता हैं कि जो मनुष्य तुलसी विवाह करता हैं उसे मोक्ष की प्राप्ति होती हैं |इस प्रकार उठनी ग्यारस अथवा प्रबोधिनी एकादशी के दिन तुलसी विवाह का महत्व बताया गया हैं |

Tulsi Vivah Puja Vidhi :

घरों में कैसे किया जाता हैं तुलसी विवाह ?

  • कई लोग इसे बड़े स्वरूप में पूरी विवाह की विधि के साथ तुलसी विवाह करते हैं |
  • कई लोग प्रति वर्ष कार्तिक ग्यारस के दिन तुलसी विवाह घर में ही करते हैं |
  • हिन्दू धर्म में सभी के घरो में तुलसी का पौधा जरुर होता हैं | इस दिन पौधे के गमले अथवा वृद्दावन को सजाया जाता हैं |
  • विष्णु देवता की प्रतिमा स्थापित की जाती हैं |
  • चारो तरफ मंडप बनाया जाता हैं | कई लोग फूलों एवम गन्ने के द्वारा मंडप सजाते हैं |
  • तुलसी एवम विष्णु जी का गठबंधन कर पुरे विधि विधान से पूजन किया जाता हैं |
  • कई लोग घरों में इस तरह का आयोजन कर पंडित बुलवाकर पूरी शादी की विधि संपन्न करते हैं |
  • कई लोग पूजा कर ॐ नमो वासुदेवाय नम: मंत्र का उच्चारण कर विवाह की विधि पूरी करते हैं |
  • कई प्रकार के पकवान बनाकर कर उत्सव रचा जाता हैं एवम नेवैद्य लगाया जाता हैं |
  • परिवार जनों के साथ पूजा के बाद आरती करके प्रशाद वितरित किया जाता हैं |

इस प्रकार इस दिन से चार माह से बंद मांगलिक कार्यो का शुभारम्भ होता हैं |तुलसी विवाह के दिन दान का भी महत्व हैं इस दिन कन्या दान को सबसे बड़ा दान माना जाता हैं | कई लोग तुलसी का दान करके कन्या दान का पुण्य प्राप्त करते हैं |

इस दिन शास्त्रों में गाय दान का भी महत्व होता हैं | गाय दान कई तीर्थो के पुण्य के बराबर माना जाता हैं |

Dev Uthani Gyaras Prabodhini Ekadashi Vrat Tulsi Vivah Katha Mahtva देव उठनी एकादशी प्रबोधनी ग्यारस तुलसी विवाह महत्व एवम पूजा विधि आपको कैसे लगी ? जरुर लिखे |

अन्य पढ़े :

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं |

Reader Interactions

Leave a Reply

About 328 results (0.28 seconds)
    Stay up to date on results for dev uthani ekadashi.

    Create alert

    Help Send feedback Privacy Terms
    About 30,200 results (0.36 seconds)
    Kharghar, Navi Mumbai, Maharashtra – From your Internet address – Use precise location
     – Learn more
    Help Send feedback Privacy Terms

     

     

     

    Advertisements

    Leave a Reply

    Fill in your details below or click an icon to log in:

    WordPress.com Logo

    You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

    Twitter picture

    You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

    Facebook photo

    You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

    Google+ photo

    You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

    Connecting to %s