9 APR 2016 SHANIVAR_SHANIDEV PUJA

शनिवार के दिन शनि व्रत (Shani Dev Vrat )

by ACHARYA SHASHIKANT on DECEMBER 24, 2008 · 483 COMMENTS

in FESTIVALS

शनि पक्षरहित होकर अगर पाप कर्म की सजा देते हैं तो उत्तम कर्म करने वाले मनुष्य को हर प्रकार की सुख सुविधा एवं वैभव भी प्रदान करते हैं। शनि देव की जो भक्ति पूर्वक व्रतोपासना करते हैं वह पाप की ओर जाने से बच जाते हैं जिससे शनि की दशा आने पर उन्हें कष्ट नहीं भोगना पड़ता।

शनिवार व्रत की विधि (Shanidev Vrat Vidhi)

शनिवार का व्रत यूं तो आप वर्ष के किसी भी शनिवार के दिन शुरू कर सकते हैं परंतु श्रावण मास में शनिवार का व्रत प्रारम्भ करना अति मंगलकारी है । इस व्रत का पालन करने वाले को शनिवार के दिन प्रात: ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करके शनिदेव की प्रतिमा की विधि सहित पूजन करनी चाहिए। शनि भक्तों को इस दिन शनि मंदिर में जाकर शनि देव को नीले लाजवन्ती का फूल, तिल, तेल, गुड़ अर्पण करना चाहिए। शनि देव के नाम से दीपोत्सर्ग करना चाहिए।

शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा के पश्चात उनसे अपने अपराधों एवं जाने अनजाने जो भी आपसे पाप कर्म हुआ हो उसके लिए क्षमा याचना करनी चाहिए। शनि महाराज की पूजा के पश्चात राहु और केतु की पूजा भी करनी चाहिए। इस दिन शनि भक्तों को पीपल में जल देना चाहिए और पीपल में सूत्र बांधकर सात बार परिक्रमा करनी चाहिए। शनिवार के दिन भक्तों को शनि महाराज के नाम से व्रत रखना चाहिए।

शनिश्वर के भक्तों को संध्या काल में शनि मंदिर में जाकर दीप भेंट करना चाहिए और उड़द दाल में खिचड़ी बनाकर शनि महाराज को भोग लगाना चाहिए। शनि देव का आशीर्वाद लेने के पश्चात आपको प्रसाद स्वरूप खिचड़ी खाना चाहिए। सूर्यपुत्र शनिदेव की प्रसन्नता हेतु इस दिन काले चींटियों को गुड़ एवं आटा देना चाहिए। इस दिन काले रंग का वस्त्र धारण करना चाहिए। अगर आपके पास समय की उपलब्धता हो तो शनिवार के दिन 108 तुलसी के पत्तों पर श्री राम चन्द्र जी का नाम लिखकर, पत्तों को सूत्र में पिड़ोएं और माला बनाकर श्री हरि विष्णु के गले में डालें। जिन पर शनि का कोप चल रहा हो वह भी इस मालार्पण के प्रभाव से कोप से मुक्त हो सकते हैं। इस प्रकार भक्ति एवं श्रद्धापूर्वक शनिवार के दिन शनिदेव का व्रत एवं पूजन करने से शनि का कोप शांत होता है और शनि की दशा के समय उनके भक्तों को कष्ट की अनुभूति नहीं होती है।

Shani Dev ji ki Aarti,शनि देव जी की आरती. Arti shree Shanivar maharaj ki

शनि पीड़ा या कुण्डली में शनि की महादशा, साढ़े साती या ढैय्या में शनि के अशुभ प्रभावों से बचाव के लिए शनि व्रत रखने का भी बहुत महत्व बताया गया है। चूंकि हर धार्मिक कर्म का शुभ फल तभी मिलता है, जब उसका पालन विधिवत किया जाए। इसी कड़ी में जानिए शनि भक्ति के लिए स्नान, पूजा, दान और आहार कैसा हो?

स्नान –

शनि उपासना के लिए सबेरे शरीर पर हल्का तेल लगाएं। बाद में शुद्ध जल में पवित्र नदी का जल, काले तिल और सौंफ मिलाकर स्नान करें।

शनि पूजा –

शनिदेव को गंगाजल से स्नान कराएं। तिल या सरसों का तेल, काले तिल, काली उड़द, काला वस्त्र, काले या नीले फूल के साथ तेल से बने व्यंजन का नैवेद्य चढ़ाएं। ‘ऊँ शं शनिश्चराय नम: इस मंत्र का कम से कम 108 बार जप करें।

दान – शनि व्रत में शनि की पूजा के साथ दान भी जरूरी है। शनि के कोप की शांति के लिए शास्त्रों में बताई गई शनि की इन वस्तुओं का दान करें। उड़द, तेल, तिल, नीलम रत्न, काली गाय, भैंस, काला कम्बल या कपड़ा, लोहा या इससे बनी वस्तुएं और दक्षिणा किसी ब्राह्मण को दान करना चाहिए।

खान-पान – शनि की अनुकूलता के लिए रखे गए व्रत में यथासंभव उपवास रखें या एक समय भोजन का संकल्प लें। इस दिन शुद्ध और पवित्र विचार और व्यवहार बहुत जरूरी है। आहार में दूध, लस्सी और फलों का रस लेवें। अगर व्रत न रख सकें तो काले उड़द की खिचड़ी में काला नमक मिलाकर या काले उड़द का हलवा खा सकते हैं।

Shani Aarti, Shani Dev Aarti, Shanidev Ji Ki Aarti, Shani Puja Video. Shani Aarti, Shani Dev Aarti, Shanidev Ji Ki Aarti, Shani Puja

आज इस अंक में हम बताएंगे कि किस तरह शनिदेव की पूजा अर्चना कर उन्हें खुश किया जाए. यह तो हम सभी जानते हैं कि शनि न्याय के देवता है. हमारे कर्मों का फल देने का पूरा कार्यभार शनि देव पर ही है लेकिन कई लोग शनिदेव को एक बुरे देवता के रूप में देखते हैं जो गलत है. शनि देव अगर किसी को उसके बुरे कार्यों की सजा देते हैं तो उसके अच्छे कार्यों के लिए उसका अच्छा फल भी देते हैं. शनि महान हैं उनकी छत्रछाया में आए हर इंसान का कल्याण होता है. तो चलिए पढ़ते हैं शनि व्रत कथा

विधि

यह पूजा और व्रत शनिदेव को प्रसन्न करने हेतु होता है.

  • काला तिल, तेल, काला वस्त्र, काली उड़द शनि देव को अत्यंत प्रिय है. इनसे ही पूजा होती है.
  • शनि देव का स्त्रोत पाठ करें. शनिस्त्रोत

शनिवार का व्रत यूं तो आप वर्ष के किसी भी शनिवार के दिन शुरू कर सकते हैं परंतु श्रावण मास में शनिवार का व्रत प्रारम्भ करना अति मंगलकारी है । इस व्रत का पालन करने वाले को शनिवार के दिन प्रात: ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करके शनिदेव की प्रतिमा की विधि सहित पूजन करनी चाहिए। शनि भक्तों को इस दिन शनि मंदिर में जाकर शनि देव को नीले लाजवन्ती का फूल, तिल, तेल, गुड़ अर्पण करना चाहिए। शनि देव के नाम से दीपोत्सर्ग करना चाहिए।

शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा के पश्चात उनसे अपने अपराधों एवं जाने अनजाने जो भी आपसे पाप कर्म हुआ हो उसके लिए क्षमा याचना करनी चाहिए।शनि महाराज की पूजा के पश्चात राहु और केतु की पूजा भी करनी चाहिए। इस दिन शनि भक्तों को पीपल में जल देना चाहिए और पीपल में सूत्र बांधकर सात बार परिक्रमा करनी चाहिए। शनिवार के दिन भक्तों को शनि महाराज के नाम से व्रत रखना चाहिए।

शनि व्रत कथा

एक समय सभी नवग्रहओं : सूर्य, चंद्र, मंगल, बुद्ध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु और केतु में विवाद छिड़ गया, कि इनमें सबसे बड़ा कौन है? सभीआपसं ऎंल ड़ने लगे, और कोई निर्णय ना होने पर देवराज इंद्र के पास निर्णय कराने पहुंचे. इंद्र इससे घबरा गये, और इस निर्णय को देने में अपनी असमर्थता जतायी. परन्तु उन्होंने कहा, कि इस समय पृथ्वी पर राजा विक्रमादित्य हैं, जो कि अति न्यायप्रिय हैं. वे ही इसका निर्णय कर सकते हैं. सभी ग्रह एक साथ राजा विक्रमादित्य के पास पहुंचे, और अपना विवाद बताया। साथ ही निर्णय के लिये कहा। राजा इस समस्या से अति चिंतित हो उठे, क्योंकि वे जानते थे, कि जिस किसी को भी छोटा बताया, वही कुपित हो उठेगा. तब राजा को एक उपाय सूझा. उन्होंने सुवर्ण, रजत, कांस्य, पीतल, सीसा, रांगा, जस्ता, अभ्रक और लौह से नौ सिंहासन बनवाये, और उन्हें इसी क्रम से रख दिय. फ़िर उन सबसे निवेदन किया, कि आप सभी अपने अपने सिंहासन पर स्थान ग्रहण करें. जो अंतिम सिंहासन पर बठेगा, वही सबसे छोटा होगा. इस अनुसार लौह सिंहासन सबसे बाद में होने के कारण, शनिदेव सबसे बाद में बैठे. तो वही सबसे छोटे कहलाये. उन्होंने सोच, कि राजा ने यह जान बूझ कर किया है. उन्होंने कुपित हो कर राजा से कहा “राजा! तू मुझे नहीं जानता. सूर्य एक राशि में एक महीना, चंद्रमा सवा दो महीना दो दिन, मंगल डेड़ महीना, बृहस्पति तेरह महीने, व बुद्ध और शुक्र एक एक महीने विचरण करते हैं. परन्तु मैं ढाई से साढ़े-सात साल तक रहता हुं. बड़े बड़ों का मैंने विनाश किया है. श्री राम की साढ़े साती आने पर उन्हें वनवास हो गया, रावण की आने पर उसकी लंका को बंदरों की सेना से परास्त होना पढ़ा.अब तुम सावधान रहना. ” ऐसा कहकर कुपित होते हुए शनिदेव वहां से चले. अन्य देवता खुशी खुशी चले गये. कुछ समय बाद राजा की साढ़े साती आयी. तब शनि देव घोड़ों के सौदागर बनकर वहां आये. उनके साथ कई बढ़िया घड़े थे. राजा ने यह समाचार सुन अपने अश्वपाल को अच्छे घोड़े खरीदने की अज्ञा दी. उसने कई अच्छे घोड़े खरीदे व एक सर्वोत्तम घोड़े को राजा को सवारी हेतु दिया. राजा ज्यों ही उसपर बैठा, वह घोड़ा सरपट वन की ओर भागा. भषण वन में पहुंच वह अंतर्धान हो गया, और राजा भूखा प्यासा भटकता रहा. तब एक ग्वाले ने उसे पानी पिलाया. राजा ने प्रसन्न हो कर उसे अपनी अंगूठी दी. वह अंगूठी देकर राजा नगर को चल दिया, और वहां अपना नाम उज्जैन निवासी वीका बताया. वहां एक सेठ की दूकान उसने जल इत्यादि पिया. और कुछ विश्राम भी किया. भाग्यवश उस दिन सेठ की बड़ी बिक्री हुई. सेठ उसे खाना इत्यादि कराने खुश होकर अपने साथ घर ले गया. वहां उसने एक खूंटी पर देखा, कि एक हार टंगा है, जिसे खूंटी निगल रही है. थोड्क्षी देर में पूरा हार गायब था। तब सेठ ने आने पर देखा कि हार गायब जहै। उसने समझा कि वीका ने ही उसे चुराया है। उसने वीका को कोतवाल के पास पकड्क्षवा दिया। फिर राजा ने भी उसे चोर समझ कर हाथ पैर कटवा दिये। वह चैरंगिया बन गया।और नगर के बहर फिंकवा दिया गया। वहां से एक तेली निकल रहा था, जिसे दया आयी, और उसने एवीका को अपनी गाडी़ में बिठा लिया। वह अपनी जीभ से बैलों को हांकने लगा। उस काल राजा की शनि दशा समाप्त हो गयी। वर्षा काल आने पर वह मल्हार गाने लगा। तब वह जिस नगर में था, वहां की राजकुमारी मनभावनी को वह इतना भाया, कि उसने मन ही मन प्रण कर लिया, कि वह उस राग गाने वाले से ही विवाह करेगी। उसने दासी को ढूंढने भेजा। दासी ने बताया कि वह एक चौरंगिया है। परन्तु राजकुमारी ना मानी। अगले ही दिन से उठते ही वह अनशन पर बैठ गयी, कि बिवाह करेगी तोइ उसी से। उसे बहुतेरा समझाने पर भी जब वह ना मानी, तो राजा ने उस तेली को बुला भेजा, और विवाह की तैयारी करने को कहा।फिर उसका विवाह राजकुमारी से हो गया। तब एक दिन सोते हुए स्वप्न में शनिदेव ने रानजा से कहा: राजन्, देखा तुमने मुझे छोटा बता कर कितना दुःख झेला है। तब राजा नेउससे क्षमा मांगी, और प्रार्थना की , कि हे शनिदेव जैसा दुःख मुझे दिया है, किसी और को ना दें। शनिदेव मान गये, और कहा: जो मेरी कथा और व्रत कहेगा, उसे मेरी दशा में कोई दुःख ना होगा। जो नित्य मेरा ध्यान करेगा, और चींटियों को आटा डालेगा, उसके सारे मनोरथ पूर्ण होंगे। साथ ही राजा को हाथ पैर भी वापस दिये। प्रातः आंख खुलने पर राजकुमारी ने देखा, तो वह आश्चर्यचकित रह गयी। वीका ने उसे बताया, कि वह उज्जैन का राजा विक्रमादित्य है। सभी अत्यंत प्रसन्न हुए। सेतठ ने जब सुना, तो वह पैरों पर गिर्कर क्षमा मांगने लगा। राजा ने कहा, कि वह तो शनिदेव का कोप था। इसमें किसी का कोई दोष नहीं। सेठ ने फिर भी निवेदन किया, कि मुझे शांति तब ही मिलेगी जब आप मेरे घर चलकर भोजन करेंगे। सेठ ने अपने घर नाना प्रकार के व्यंजनों ने राजा का सत्कार किया। साथ ही सबने देखा, कि जो खूंटी हार निगल गयी थी, वही अब उसे उगल रही थी। सेठ ने अनेक मोहरें देकर राजा का धन्यवाद किया, और अपनी कन्या श्रीकंवरी से पाणिग्रहण का निवदन किया। राजा ने सहर्ष स्वीकार कर लिया। कुछ समय पश्चात राजा अपनी दोनों रानियों मनभावनी और श्रीकंवरी को साभी दहेज सहित लेकर उज्जैन नगरी को चले। वहां पुरवासियों ने सीमा पर ही उनका स्वागत किया। सारे नगर में दीपमाला हुई, व सबने खुशी मनायी। राजा ने घोषणा की , कि मैंने शनि देव को सबसे छोटा बताया थ, जबकि असल में वही सर्वोपरि हैं। तबसे सारे राज्य में शनिदेव की पूजा और कथा नियमित होने लगी। सारी प्रजा ने बहुत समय खुशी और आनंद के साथ बीताया। जो कोई शनि देव की इस कथा को सुनता या पढ़ता है, उसके सारे दुःख दूर हो जाते हैं। व्रत के दिन इस कथा को अवश्य पढ़ना चाहिये।

शनि व्रत कथा, शनि व्रत प्रदोष कथा, Shani Vrata Katha, Shani Vrata katha in Hindi, Shani dev in Hindi, Shani Maharaj, Hindi vrat katha

Tags:                   

शनि अमावस्या  हिन्दी देवनागरी में पढ़ें।

shani amavasya
shani dev
vivaran kisi mah men jab amavasyashanivar ke din padati hai to ise ‘shani amavasya’ kaha jata hai. bhagavan shani devki kripa pane ka yah sarvottam din mana jata hai.
any nam ‘shanishchari amavasya’, ‘pitrikaryeshu amavasya’
mukhy devata shani dev
shraddh karm shani amavasya ke din shraddh adi karm poorn karane se vyakti pitridosh adi se mukt ho jata hai aur use karyon men saphalata milati hai.
vishesh ‘shani stotr’ ka path karake shani ki koee bhi vastu, jaise- kala til, lohe ki vastu, kala chana, knbal, nila phool dan karane se shani dev varshbhar kashton se bachae rakhate hain.
snbndhit lekh shani jaynti, shani dev, soory dev, hanuman, rahu, shani chalisa, hanuman chalisa
any janakari shani dev samast grahon ke mukhy niyntrak aur nyayadhish hain. nyayadhish hone ke nate ve kisi ko bhi apani jholi se kuchh nahin dete. ve to keval shubh-ashubh karmon ke adhar par hi manushy ko samay-samay par unake karmon ke anusar hi phal dete hain.

shani amavasya ke din bhagavan soory dev ke putr shani dev ki aradhana karane se samast manokamanaen poorn hoti hain. kisi mah ke jis shanivar ko amavasya padati hai, usi din ‘shani amavasya’ manaee jani hai. yah ‘pitrikaryeshu amavasya’ aur ‘shanishchari amavasya’ ke roop men bhi jani jati hai. ‘kalasarp yog’, ‘dhaiyya’ tatha ‘sadhesati’ sahit shani snbndhi anek badhaon se mukti pane ke lie ‘shani amavasya’ ek durlabh din v mahattvapoorn samay hota hai. pauranik dharm grnthon aur hindoo manyataon men ‘shani amavasya’ ki kafi mahatta batalaee gee hai. is din vrat, upavas, aur dan adi karane ka bada puny milata hai.

bhagy vidhata shani dev

bhagavan soory dev ke putr shani dev ka nam sunakar log saham se jate hai, lekin aisa kuchh bhi nahin hai. yah sahi hai ki shani dev ki ginati ashubh grahon men hoti hai, lekin shani dev manushyon ke karmon ke anusar hi phal dete hai. bhagavan shani dev bhagy vidhata hain. yadi nishchhal bhav se shani dev ka nam liya jaye to vyakti ke sabhi kasht aur du:kh door ho jate hain. shri shani dev to is charachar jagat men karmaphal data hain, jo vyakti ke karm ke adhar par usake bhagy ka phaisala karate hain. is din shani dev ka poojan saphalata prapt karane evn dushparinamon se chhutakara pane hetu bahut uttam hota hai. is din shani dev ka poojan sabhi manokamanaen poori karata hai. ‘shanishchari amavasya’ par shani dev ka vidhivat poojan kar sabhi log paryapt labh utha sakate hain. shani dev kroor nahin, apitu kalyanakari hain. is din vishesh anushthan dvara pitridosh aur kalasarp doshon se mukti paee ja sakati hai. isake atirikt shani ka poojan aur tailabhishek kar shani ki ‘sadhesati’, ‘dhaiyya’ aur ‘mahadasha’ janit snkat aur apadaon se bhi mukti paee ja sakati hai.

shani dev ko paramapita paramatma ke jagadadhar svaroop ‘kachchhap’ ka grahavatar aur ‘koormavatar’ bhi kaha gaya hai. vah maharshi kashyap ke putr soory dev ki sntan hain. unaki mata ka nam ‘chhaya’ hai. inake bhaee ‘manu savarni’, ‘yamaraj‘, ‘ashvinikumar‘ aur bahan ka nam ‘yamuna‘ aur ‘bhadra’ hai. unake guru svayn bhagavan ‘shiv‘ hain aur unake mitr hain- ‘kal bhairav’, ‘hanuman‘, ‘budh‘ aur ‘rahu‘. samast grahon ke mukhy niyntrak hain shani dev. unhen grahon ke nyayadhish mndal ka pradhan nyayadhish kaha jata hai. shani dev ke nirnay ke anusar hi sabhi grah manushy ko shubh aur ashubh phal pradan karate hain. nyayadhish hone ke nate shani dev kisi ko bhi apani jholi se kuchh nahin dete. vah to keval shubh-ashubh karmon ke adhar par hi manushy ko samay-samay par vaisa hi phal dete hain, jaise unhonne karm kiya hota hai. dhan-vaibhav, man-saman aur gyan adi ki prapti devon aur rishiyon ki anuknpa se hoti hai, jabaki arogy labh, pushti aur vnsh vriddhi ke lie pitaron ka anugrah jaroori hai. shani ek nyayapriy grah hain. shani dev apane bhakton ko bhay se mukti dilate hain.[1]

pitridosh se mukti

hindoo dharm men amavasya ka vishesh mahatv hai aur amavasya yadi shanivar ke din pade to isaka mahatv aur bhi adhik badh jata hai. shani dev ko amavasya adhik priy hai. unaki kripa ka patr banane ke lie ‘shanishchari amavasya’ ko sabhi ko vidhivat aradhana karani chahie. ‘bhavishyapuran’ ke anusar ‘shanishchari amavasya’ shani dev ko adhik priy rahati hai. ‘shanaishchari amavasya’ ke din pitaron ka shraddh avashy karana chahie. jin vyaktiyon ki kundali men pitridosh ya jo bhi koee pitri dosh ki pida ko bhog rahe hote hain, unhen is din dan ityadi vishesh karm karane chahie. yadi pitaron ka prakop n ho to bhi is din kiya gaya shraddh ane vale samay men manushy ko har kshetr men saphalata pradan karata hai, kyonki shani dev ki anuknpa se pitaron ka uddhar badi sahajata se ho jata hai.

poojan vidhi

‘shani amavasya’ ke din pavitr nadi ke jal se ya nadi men snan kar shani dev ka avahan aur darshan karana chahie. shani dev ko nile rng ke pushp, bilv vriksh ke bilv patr, akshat arpan karen. bhagavan shani dev ko prasann karane hetu shani mntr Om shn shanaishcharay nam:, athava Om pran prin praun shn shanaishcharay nam: mntr ka jap karana chahie. is din sarason ke tel, udad ki dal, kale til, kulathi, gud shani yntr aur shani snbndhi samast poojan samagri ko shani dev par arpit karana chahie aur shani dev ka tailabhishek karana chahie. shani amavasya ke din ‘shani chalisa‘, ‘hanuman chalisa‘ ya ‘bajarng ban‘ ka path avashy karana chahie. jinaki kundali ya rashi par shani ki sadhesati v dhaiya ka prabhav ho, unhen shani amavasya ke din par shani dev ka vidhivat poojan karana chahie.

mahatv

‘shani amavasya’ jyotish shastr ke anusar sadhesati evn dhaiyya ke dauran shani vyakti ko apana shubhashubh phal pradan karate hain. ‘shani amavasya’ bahut mahattvapoorn mani jati hai. is din shani dev ko prasann karake vyakti shani ke kop se apana bachav kar sakate hain. puranon ke anusar shani amavasya ke din shani dev ko prasann karana bahut asan hota hai. shani amavasya ke din shani dosh ki shanti bahut hi saralata kar sakate hain. is din maharaj dasharath dvara likha gaya ‘shani stotr’ ka path karake shani ki koee bhi vastu jaise- kala til, lohe ki vastu, kala chana, knbal, nila phool dan karane se shani sal bhar kashton se bachae rakhate hain. jo log is din yatra men ja rahe hain aur unake pas samay ki kami hai, vah saphar men ‘shani navakshari mntr’ athava ‘konasth: pingalo babhru: krishnau raudrontako yam:. sauri: shanishcharo mnd:pippaladen snstut:..’ mntr ka jap karane ka prayas karate hain to shani dev ki poorn kripa prapt hoti hai.

kaise karen shanidev ko prasann

  1. shani dev ke bhakton ko shani amavasya ke din shani mndir men jakar shani dev ko nile lajavnti ka phool, til, tel, gu़d arpan karana chahie. shani dev ke nam se dipotsarg karana chahie.[2]
  2. shani amavasya ke din ya ratri men ‘shani chalisa‘ ka path, shani mntron ka jap evn ‘hanuman chalisa‘ ka path karen.
  3. is din pipal ke ped par sat prakar ka anaj chadhaen aur sarason ke tel ka dipak jalaen.
  4. til se bane pakavan, udad ki dal se bane pakavan garibon ko dan karen.
  5. udad dal ki khichadi daridr narayan ko dan karen.
  6. amavasya ki ratri men ath badam aur ath kajal ki dibbi kale vastr men bandhakar sndook men rakhen.
  7. shani yntr, shani laauket, kale ghode ki nal ka chhalla dharan karen.
  8. is din nilam ya kataila ratn dharan karen, jo phal pradan karata hai.
  9. kale rng ka shvan (kutta) is din se palen aur usaki bhali prakar se seva karana shuroo karen.
  10. shanivar ke din shani dev ki pooja ke pashchat unase apane aparadhon evn jane-anajane jo bhi apase pap karm hua ho, usake lie kshama yachana karani chahie.
  11. shani maharaj ki pooja ke pashchat ‘rahoo’ aur ‘ketu’ ki pooja bhi karani chahie.
  12. is din shani bhakton ko pipal men jal dena chahie aur pipal men sootr bandhakar sat bar parikrama karani chahie.
  13. shanivar ke din bhakton ko shani maharaj ke nam se vrat rakhana chahie.
  14. shanishvar ke bhakton ko sndhya kal men shani mndir men jakar dip bhent karana chahie aur udad dal men khichadi banakar shani maharaj ko bhog lagana chahie. shanidev ka ashirvad lene ke pashchat svayn bhi prasad svaroop khichadi khana chahie.[2]
  15. soory dev ke putr shani dev ki prasannata hetu is din kali chintiyon ko gu़d evn ata dena chahie.
  16. is din kale rng ka vastr dharan karana chahie.
  17. shravan mas men shanivar ka vrat prarnbh karana ati mngalakari mana jata hai.
  18. shani amavasya ke din kale ghode ki nal ya nav ki satah ki kil ka bana chhalla madhyama men dharan karen.
  19. shanivar ko apane hath ki nap ka 19 hath kala dhaga mala banakar pahanen.

shani amavasya shubh ho

‘shani amavasya’ par bhagavan shani dev se apane samast bure karmon ke lie mafi mang leni chahie aur nimn mntron ka jap karana chahie[2]

shani mntr v stotr sarvabadha nivarak vaidik gayatri mntr-

“Om bhagabhavay vidmahe mrityurupay dhimahi, tanno shani: prachodayath.”

  • pratidin shradhdanusar ‘shani gayatri’ ka jap karane se ghar men sadaiv mngalamay vatavaran bana rahata hai.
vaidik shani mntr

“Om shannodeviramishtay apo bhavantu pitaye shnyyorabhisravantun:.”

  • yah shani dev ko prasann karane ka sabase pavitr aur anukool mntr hai. isaki do mala subah sham karane se shani dev ki bhakti v priti milati hai.
kasht nivaran shani mntr nilambar-

“shooladhar: kiriti grighrasthitastrasakaro dhanushmanh.
chartubhuj: sooryasut: prashant: sadaastun mahyn varndoalpagami॥”

  • is mntr se anavashyak samasyaon se chhutakara milata hai. pratidin ek mala subah sham karane se shatru chah kar bhi nukasan nahin pahuncha payega.
sukh-samriddhi dayak shani mntr-

“konasth:pingalo vabhru: krishnau raudrant ko yam:.
sauri: shanaishcharau mnd: pippaladen snstut:॥”

  • is shani stuti ka prat:kal path karane se shani janit kasht nahin vyapate aur sara din sukh poorvak bitata hai.[2]
shani patni nam stuti-

“Om shn shanaishcharay nam: dhvajani dhamini chaiv knkali kalahapriya.
kntaki kalahi chaath turngi mahishi aja॥
Om shn shanaishcharay nam:”

  • yah bahut hi adbhut aur rahasyamay stuti hai. yadi karobari, parivarik ya sharirik samasya ho, tab is mntr ka vidhividhan se jap aur anushthan kiya jaye to kasht koson door rahenge.
panne ki pragati avastha
adhar
prarambhik
madhyamik
poornata
shodh

tika tippani aur sndarbh

  1. ऊपर जायें shani amavasya men kya karen (hindi). . abhigaman tithi: 08 joon, 2013.
  2. इस तक ऊपर जायें:2.0 2.1 2.2 2.3 shani jaynti ka mahayog (hindi). . abhigaman tithi: 08 joon, 2013.

any snbndhit link

varnamala kramanusar lekh khoj

   a    a    i    ee    u    oo    e    ai    o    au    an    k    kh    g    gh    n    ch    chh    j    jh    n    t    th    d    dh    n    t    th    d    dh    n    p    ph    b    bh    m    y    r    l    v    sh    sh    s    h    ksh    tr    gy    ri    ri    aau    shr    aah

Read more: http://en.bharatdiscovery.org/india/%E0%A4%B6%E0%A4%A8%E0%A4%BF_%E0%A4%85%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE#ixzz45W5eiA6R

About 149 results (0.65 seconds)
    Stay up to date on results for shanidev ko puja bhog ki samagri.

    Create alert

    About 1,880 results (0.98 seconds)

    1. Buy Puja Kits – Simplify Your Puja with Puja Kits‎

      Adwww.pujashoppe.com/
      Complete Puja Solution
    2. Havan Samagri at Amazon‎

      Candles, Artwork, Vases & More. Free Shipping. Cash on Delivery.
      Low Prices · Easy Returns · Huge Selection · 100% Purchase Protection
    3. Pujan Samagri‎

      Adhttp://www.zapmeta.co.in/Pujan+Samagri
      Get Pujan Samagri Info From 6 Search Engines at Once.
      Top 10 · Clear · Smart Searching · Find Fast
    Help Send feedback Privacy Terms

     

    Advertisements

    Leave a Reply

    Fill in your details below or click an icon to log in:

    WordPress.com Logo

    You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

    Twitter picture

    You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

    Facebook photo

    You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

    Google+ photo

    You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

    Connecting to %s